963

पाकिस्तान के एक शहर में स्मार्टफोन से भी सस्ते मिलते है हथियार

अगर आपको अपनी सुरक्षा के लिए एक रिवॉल्वर खरीदनी हो, तो आपको लाइसेंस के लिए पुलिस और प्रशासन के चक्कर काटने होंगे. यदि लाइसेंस मिल गया, तो एक बढ़िया रिवॉल्वर खरीदने में भी एक से दो लाख रुपये खर्च करने पड़ेंगे.

लेकिन क्या आप यह सोच सकते हैं कि कोई देश ऐसा भी है, जहां मोबाइल फोन की कीमत में आपको एके-47 राइफल मिल सकती है? ये हम नहीं कह रहे हैं, बल्कि ऐसी ही खबर सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रही है.

ये तो सब जानते हैं कि हमारा पड़ोसी देश पाकिस्तान आतंकवादियों के लिए स्वर्ग से कम नहीं है, जहां आतंकियों का हथियारों के साथ खुलेआम घूमना आम बात है, लेकिन क्या आपको पता है कि पाकिस्तान में एक जगह ऐसा भी है, जहां क्लाशनिकोव (AK-47) और एमपी सब मशीनगन जैसे ऑटोमेटिक हथियार स्मार्टफोन से भी कम कीमत पर बेचे जाते हैं.

962

मराठों को 16 फीसदी आरक्षण पर फडणवीस सरकार ने लगायी मुहर

महाराष्ट्र में मराठा आरक्षण को कैबिनेट की मंजूरी के बाद आज मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने विधानसभा में पेश कर दिया. फडणवीस ने बड़ा दांव खेलते हुए पिछड़ा आयोग की सिफारिश के आधार पर 16 प्रतिशत मराठा आरक्षण का बिल पेश किया, जो ध्वनिमत से पास हो गया.बाद में विधान परिषद ने भी इस बिल पर अपनी मुहर लगा दी.

मराठा आरक्षण के लिए विशेष कैटेगरी SEBC बनाई गई है. महाराष्ट्र में 76 फीसदी मराठी खेती-किसानी और मजदूरी कर जीवन यापन कर रहे हैं. वहीं सिर्फ 6 फीसदी लोग सरकारी-अर्ध सरकारी नौकरी कर रहे हैं.

बीते दिनों ही फडणवीस कैबिनेट ने मराठा आरक्षण के लिए बिल को मंजूरी दी थी. इसके साथ ही अब राज्य में मराठा आरक्षण का रास्ता साफ हो गया था. सीएम देवेंद्र फडणवीस ने कहा था कि हमें पिछड़ा वर्ग आयोग की रिपोर्ट मिली थी, जिसमें तीन सिफारिशें की गई हैं.

641

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज बोली- सार्क की बैठक में शामिल नहीं होगा भारत

विदेश मंत्री सुषमा स्‍वराज ने साफ कर दिया है कि भारत इस साल सार्क सम्मेलन में शामिल नहीं होगा. सुषमा स्वराज ने बुधवार को कहा कि जब तक पाकिस्तान भारत में आतंकी गतिविधियों पर रोक नहीं लगाएगा, तब तक कोई दि्वपक्षीय बातचीत नहीं होगी.

सुषमा स्वराज ने कहा, 'हम लोग पाकिस्तान की ओर से सार्क सम्मेलन के लिए भेजे गए न्योते पर सकारात्मक जवाब नहीं दे रहे हैं. मैंने पहले भी कहा है कि जब तक पाकिस्तान भारत में आतंकी गतिविधियों पर रोक नहीं लगाएगा. तब तक कोई दि्वपक्षीय बातचीत नहीं होगी. इसलिए भारत सार्क सम्मेलन में हिस्सा नहीं लेगा.

इससे पहले सुषमा स्वराज ने पाकिस्तान में करतारपुर कॉरिडोर के उद्घाटन के मद्देनजर बुधवार को एक बार फिर स्पष्ट किया कि पाकिस्तान जब तक आतंकवाद नहीं रोकेगा, तब तक भारत किसी भी मुद्दे पर बातचीत नहीं करेगा. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि भारत क्षेत्रिय शांति और विकास के लिए बढ़ाए गए हर एक कदम का स्वागत करता है. स्वराज ने कहा कि करतारपुर कॉरिडोर खुलने से पाकिस्तान के साथ बातचीत शुरू नहीं हो जाएगी, इसके लिए पाकिस्तान को पहले आतंकवाद पर रोक लगानी होगी.

640

करतारपुर कॉरिडोर का इमरान खान ने किया शिलान्यास, सिद्धू भी रहें मौजूद

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने करतारपुर में गुरुद्वारा दरबार साहिब को भारत के गुरदासपुर जिले में स्थित डेरा बाबा नानक गुरुद्वारा से जोड़ने वाले बहुप्रतीक्षित गलियारे की आधारशिला रखी. भारत की ओर गलियारे के लिए सोमवार को उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने आधारशिला रखी थी.

इस दौरान भारत की ओर से केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी, हरसिमरत कौर और नवजोत सिंह सिद्धू मौजूद थे. पाकिस्तान में होने वाले समारोह के लिए नवजोत सिंह सिद्धू मंगलवार को ही यहां पहुंच चुके हैं. भारत सरकार ने कार्यक्रम में शिरकत करने के लिए केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर बादल और हरदीप सिंह पुरी को भेजा है. 

माना जाता है कि करतारपुर में ही सिख धर्म के संस्थापक गुरु नानक देव जी ने अंतिम सांस ली थी. करतारपुर साहिब पाकिस्तान में रावी नदी के पार स्थित है और डेरा बाबा नानक से करीब चार किलोमीटर दूर है. सिख गुरु ने 1522 में इस गुरुद्वारे की स्थापना की थी. करतारपुर गलियारे से भारतीय सिख श्रद्धालु करतारपुर में स्थित गुरुद्वारा दरबार साहिब तक वीजा रहित यात्रा कर सकेंगे. इस गलियारे के छह महीने के भीतर बनकर तैयार होने की उम्मीद है.

633

गाजा तूफान से किसानों की फसल बर्बाद, 3 किसानों ने दी जान

बंगाल की खाड़ी से उठे चक्रवात तूफान का असर अब धीरे-धीरे खत्म होने लगा है. लेकिन यह तूफान अपने पीछे तबाही का मंजर छोड़ गया है. इस तूफान ने तमिलनाडु में हजारों हेक्टयर जमीन पर लगी फसल तबाह हो गई है. इसे लेकर किसान परेशान है. ये तबाही इतनी बड़ी है कि पिछले एक सप्ताह में तीन किसान खुदकुशी कर चुके हैं.

शनिवार को तमिलनाडु के पुड्डुकोत्तई जिले में 45 साल के किसान ने अपनी जान दे दी. स्थानीय मीडिया के अनुसार, तिरुचेलवम नारियल की खेती करते थे और उनकी करीब 25 एकड़ जमीन बर्बाद हो गई. यही कारण रहा कि उन्होंने अपनी जान दे दी.

ये हाल तमिलनाडु के सिर्फ एक जिले का नहीं बल्कि कई क्षेत्रों का है. गाजा तूफान से करीब 5 एकड़ जमीन बर्बाद होने के बाद 58 साल के सुंदरराज ने 22 नवंबर को जहर खाकर अपनी जान दे दी थी.