आज पीएम मोदी ने दिल्ली के द्धारका में एक्स्पो सेंटर की नींव रखी

700

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को दिल्ली के द्वारका में इंडिया इंटरनेशनल कनवेंशन एंड एक्सपो सेंटर की आधारशिला रखी. द्वारका जाने के लिए पीएम मोदी ने धौला कुआं से मेट्रो की सवारी की.

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा, मुझे जानकर खुशी है कि यह परिसर यातायात की आधुनिक सुविधाओं से जुड़ा होगा, एयरपोर्ट, मेट्रो स्टेशन से जुड़ा होगा. बिजनेस, मनोरंजन या टूरिज्म से जुड़ी व्यवस्थाएं एक प्लेटफॉर्म पर मिलेंगी.

पीएम ने कहा, यह प्रोजेक्ट सरकार की संकल्प का हिस्सा है जिसके तहत इन्फ्रास्ट्रक्चर मजबूत किया जा रहा है. हम दुनिया में कहीं भी जाएं, तो पाएंगे कि छोटे-छोटे देश भी बड़ी-बड़ी कॉन्फ्रेंस रखने की क्षमता रखते हैं.

इन सुविधाओं से ऐसे देश आधुनिक टूरिज्म के हब बन चुके हैं लेकिन हमारे देश में इस दिशा में सोचा ही नहीं गया. सबकुछ प्रगति मैदान में सीमित हो चुका था. अब हम इससे आगे निकल चुके हैं. आईआईसीसी के निर्माण से देश के अन्य राज्यों में भी बिजनेस का माहौल विकसित करेगा. यह कनवेंशन सेंटर रेडी-टू यूज होगा.

पीएम मोदी ने कहा, 26 हजार करोड़ की लागत से बनने वाला यह सेंटर देश के 80 करोड़ युवाओं के ऊर्जा का केंद्र बन कर उभरेगा. यह केवल कनवेंशन और एक्सपो सेंटर नहीं होगा बल्कि राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय बिजनेस के लिए औद्योगिक मंच भी होगा.

प्रधानमंत्री ने कहा, यह सेंटर दिल्ली में एक मिनी सिटी की तरह होगा. एक ही परिसर में कनवेंशन हॉल, एक्सपो हॉल, मीटिंग हॉल, होटल, मार्केट, ऑफिस और कई अन्य सुविधाएं मौजूद होंगी.

प्रधानमंत्री ने आगे कहा, इस सरकार ने देश के विकास के लिए अभूतपूर्व योजनाओं पर कार्य शुरू किया है. सबसे लंबी सुरंग बनाने का काम, सबसे लंबी गैस पाइपलाइन बिछाने का काम, समंदर पर सबसे लंबा पुल बनाने का काम, सबसे बड़ी मोबाइल मैन्युफेक्चरिंग युनिट बनाने का काम. हमारी सरकार देश के हर गांव तक ब्रॉडबैंड कनेक्टिविटी, हर परिवार तक बिजली और ग्रामीण क्षेत्र में सबसे बड़े बैंकिंग नेटवर्क इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक को बनाने का काम कर रही है.

प्रधानमंत्री ने कहा, हम दुनिया में कहीं भी जाएं, अक्सर देखने को मिलता है कि छोटे-छोटे देश भी बड़ी-बड़ी कॉन्फ्रेंस रखने की क्षमता रखते हैं. इस तरह की आधुनिक व्यवस्थाओं के निर्माण की वजह से कई देश कॉन्फ्रेंस टूरिज्म के हब बने हैं लेकिन हमारे यहां बरसों तक इस दिशा में सोचा ही नहीं गया. बड़ी-बड़ी कॉन्फ्रेंस को सिर्फ प्रगति मैदान जैसे कुछ एक सेंटरों तक ही सीमित कर दिया गया. अब ये सोच बदली है और इसी का परिणाम आज का ये आयोजन है.

पीएम ने कहा, देश में पिछले चार वर्षों में चौतरफा विकास इसलिए संभव हो पाया, उन्हीं संसाधनों, उन्हीं संसाधनों के रहते सरकार बेहतर काम इसलिए कर पाई क्योंकि राष्ट्र हित को सर्वोपरि रखा गया, व्यवस्थाओं को सही दिशा की तरफ मोड़ा गया.

प्रधानमंत्री ने कहा, तीन साल पहले लोग मुझे चैलेंज कर रहे थे कि बैंकों को मर्ज करके दिखाओ. आज जब मैंने ये काम कर दिया तो सब लोग चुप हैं. अब कोई इस बारे में बात नहीं कर रहा. नोटबंदी हो या जीएसटी, जीडीपी बढ़ाने के लिए यह अनवरत प्रक्रिया है. इसे धरातल पर उतारने के लिए सरकार कड़ी मेहनत कर रही है.

पीएम ने कहा, आज के वैश्विक परिदृश्य में हमें केवल प्रासंगिक नहीं बनना है बल्कि लीडर का रोल भी निभाना है.

Add comment


Security code
Refresh