कर्नाटक में विधान परिषद में चेयरमैन पद को लेकर कांग्रेस और जेडीएस में तकरार

320

कर्नाटक में एचडी कुमारस्वामी की अगुवाई में जेडीएस और कांग्रेस की मिली जुली सरकार को शपथ लिए अभी एक महीना भी नहीं हुआ है, लेकिन गठबंधन में शामिल दोनों दलों के बीच तकरार की खबर आती रहती है. इस बार चेयरमैन पद को लेकर जेडीएस और कांग्रेस के बीच तनातनी का माहौल बन गया है.

पिछले महीने राज्य में हुए विधानसभा चुनाव में किसी भी दल को स्पष्ट बहुमत नहीं मिला और बीएस येदियुरप्पा के नेतृत्व में बीजेपी ने सरकार बनाई लेकिन बहुमत साबित नहीं कर सकी, इसके बाद जेडीएस ने कांग्रेस के समर्थन से सरकार बनाई. हालांकिएचडी कुमारस्वामी सरकार बने एक महीना भी नहीं हुआ, लेकिन दोनों के बीच फिर से खटपट की खबर है.

जेडीएस का कहना है कि कांग्रेस ने विधानसभा में स्पीकर का पद पहले ही ले लिया है और अब उसकी ख्वाहिश विधान परिषद में चेयरमैन पद को भी हासिल करने की है. इस मुद्दे पर अभी एकराय नहीं बन सकी है, हालांकि इसको लेकर बातचीत जारी है.

विधानसभा के ऊपरी सदन में चेयरमैन का पद आज (21 जून) खाली हो गया. यह पद अब तक बीजेपी के पास था. बीजेपी के बुजुर्ग नेता डीएच शंकरमूर्ति विधान परिषद के चेयरमैन पद पर बने हुए थे और आज उनका कार्यकाल समाप्त हो गया.

शंकरमूर्ति के रिटायर होने के बाद कांग्रेस और जेडीएस के बीच इस पद को लेकर खींचतान शुरू हो गई है. जेडीएस का कहना है कि विधानपरिषद में अध्यक्ष का पद उसे चाहिए, जबकि ऐसी ही मांग कांग्रेस की ओर से भी की जा रही है.

खास बात यह है कि इस पद के लिए दोनों सहयोगी दलों ने दावेदारी भी ठोक दी है. जेडीएस की ओर से एमएलसी बासवराज होराटी को उम्मीदवार बनाया गया है, वहीं कांग्रेस की तरफ से एसआर पाटिल मैदान में ताल ठोक रहे हैं. हालांकि जेडीएस इस पद के लिए आपस में ही उलझने से बचने की जुगत में जुटा हुआ है.

इससे पहले कुमारस्वामी के शपथ ग्रहण से पहले मंत्रिमंडल को लेकर दोनों दलों में खूब खींचतान चली, जिस कारण मंत्रिमंडल के विस्तार में देरी हुई. इसके बाद विभागों के बंटवारे को लेकर भी विवाद बना रहा. कैबिनेट के शामिल 25 विधायकों में से जेडीएस के नौ और कांग्रेस के 14 विधायक शामिल हुए. जबकि मायावती की पार्टी बसपा के एकमात्र विधायक और एक निर्दलीय को भी कैबिनेट में जगह दी गई.

Add comment


Security code
Refresh