गिलगिट बाल्टिस्तान में विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने आतंकवाद के मुद्दे पर पाकिस्तान को घेरा

358

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने आतंकवाद पर फिर पाकिस्तान को आड़े हाथ लिया. उन्होंने कहा कि जब सीमा पर जनाजे उठ रहे हों, तब बातचीत नहीं हो सकती. सुषमा ने सोमवार दोपहर को मीडिया को संबोधित करते हुए कहा कि पाकिस्तान, ईरान, नॉर्थ कोरिया समेत कई मुद्दों पर बात की. सुषमा ने पाकिस्तान के साथ बातचीत के मुद्दे पर साफतौर पर कहा कि इस मामले में भारत का रुख साफ है आतंकवाद और बातचीत एक साथ नहीं हो सकती हैं.

विदेश मंत्री ने कहा कि पाकिस्तान में चुनाव होने से पहले भी बात करने को तैयार हैं, लेकिन हिंसा और बातचीत साथ में नहीं हो सकते हैं. वहीं गिलगिट बाल्टिस्तान के मुद्दे पर सुषमा ने कहा कि हमने इस मामले में शिकायत दर्ज कराई है. पाकिस्तान एक ऐसा देश है जिसे खुद लोकतंत्र के मायने नहीं पता है इसलिए वह हमें ना सिखाए.

कांग्रेस द्वारा विदेश नीति पर लगाए गए आरोपों पर सुषमा ने पलटवार किया. उन्होंने कहा कि कांग्रेस के समय पर विदेश नीति सिर्फ कुछ खास लोगों के लिए थी, लेकिन हमने विदेश नीति को लोक नीति बना दिया है. मैं खुद सीधा ट्विटर के जरिए लोगों के संपर्क में रहती हूं, फिर चाहे वह दुनिया के किसी भी कोने में मुसीबत में हों.

चीन के मुद्दे पर सुषमा ने कहा कि डोकलाम में अभी स्थिति में कोई बदलाव नहीं आया है. कैलाश मानसरोवर यात्रा को लेकर उन्होंने कहा कि हमारी स्थिति साफ है कि चीनी हिस्से में कोई स्टॉपेज़ नहीं है. एक जगह है जहां पर श्रद्धालु नहा सकते हैं.

हाल ही में हुए पीएम मोदी के चीन दौरे पर उन्होंने कहा कि इन्फॉर्मल समिट एक प्रकार की नई नीति है. इस बार हमने किसी भी एजेंडे को दूर रखा और फिर आगे बढ़े. उन्होंने कहा कि इस बैठक का मकसद दोनों देशों में विश्वास बढ़ाना था.

Add comment


Security code
Refresh