अमित शाह ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कांग्रेस और JDS के गठबंधन को बताया अपवित्र

247

बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने कर्नाटक में अपनी सरकार गिर जाने पर सोमवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस की. उन्होंने इस दौरान कर्नाटक की जनता का आभार जताया. शाह ने कहा कि हमारे कार्यकर्ताओं की मेहनत और जनता के आशीर्वाद से बीजेपी राज्य में सबसे बड़ी पार्टी बनी है.

अमित शाह ने कहा कि हमारी पार्टी पिछले चुनाव की 40 सीटों के मुकाबले इस बार 104 सीटें जीत कर आई है. उन्होंने कहा कि 5 साल की कांग्रेस सरकार में भ्रष्टाचार, कुशासन और तुष्टिकरण की नीतियों को उजाकर करना ही हमारी पार्टी का मकसद रहा. कर्नाटक में किसानों की आत्महत्या, कमजोर कानून व्यवस्था भी विफल सरकार की परिचायक बनी है.

बीजेपी अध्यक्ष ने कहा कि मोदी सरकार ने केंद्र की ओर से कर्नाटक की हर संभव मदद की है. उन्होंने कहा कि आजादी के बाद इस बार की केंद्र सरकार ने सबसे ज्यादा प्रोजेक्ट कर्नाटक को दिए हैं. उन्होंने कहा कि कर्नाटक की जनता ने हमें कांग्रेस के खिलाफ जनादेश दिया है और जेडीएस भी सिर्फ अपनी परंपरागत सीटों पर ही चुनाव जीत पाई है.

पूर्ण बहुमत न होने पर भी सरकार बनाने के दावे पर अमित शाह ने कहा कि ऐसी स्थिति में सबसे बड़े दल होने के नाते बीजेपी को ही सबसे पहले सरकार बनाने का अधिकार है. इसी वजह से हमने राज्यपाल के सामने सरकार बनाने का दावा पेश किया था और इसमें कुछ भी गलत नहीं है, क्योंकि अगर ऐसा न करते तो दोबारा चुनाव कराने की नौबत आती.

जेडीएस-कांग्रेस गठबंधन पर हमला करते हुए अमित शाह ने कहा कि परिणाम से साफ है कि राज्य की जनता ने कांग्रेस को नकार दिया है और कांग्रेस को हराने वाले दल बीजेपी को सबसे बड़ी पार्टी बनाया है. बीजेपी कई सीटों पर तो नोटा से भी कम अंतर से हारी है और जनता ने हमें बहुमत देने की पूरी कोशिश की.

विपक्ष के जश्न पर अमित शाह ने कहा कि कर्नाटक की जनता जश्न नहीं बना रही है बल्कि कांग्रेस-जेडीएस जश्न बना रहे हैं. उन्होंने कहा कि कांग्रेस को चुनाव से पहले ही अंदेशा था कि वो चुनाव हारने जा रहे हैं. शाह ने कहा कि कांग्रेस ने चुनाव प्रचार में सारी मर्यादाओं को तोड़ने का काम किया है. साथ ही कांग्रेस अध्यक्ष ने खुद झूठा प्रचार किया है.

अमित शाह ने कहा कि यह एक अपवित्र गठबंधन है. जनादेश के खिलाफ जाकर कांग्रेस ने जेडीएस को समर्थन दिया है और जनादेश के खिलाफ जाकर ही जेडीएस ने समर्थन लिया है. उन्होंने कहा कि दोनों पार्टियों के नेता चुनाव से पहले एक-दूसरे को बारे में न जाने क्या-क्या कहा करते थे

Add comment


Security code
Refresh