SC/ST एक्ट के विरोध में लोगो ने की हिंसा कई गाडियों को किया आग के हवाले

0000014

एससी एसटी एक्ट में सुप्रीम कोर्ट के फैसले के खिलाफ खिलाफ आज बुलाए गए दलित संगठनों के भारत बंद में जमकर हिंसा देखने को मिली. हिंसा का अंदाजा इसी बात से लगा सकते हैं कि मध्य प्रदेश में 6 लोगों की मौत हो गई है. जबकि राजस्थान में 1 और उत्तर प्रदेश में 1 व्यक्ति की जान चली गई. 
यूपी से भी बड़े पैमाने पर हिंसा और आगजनी की तस्वीरें आई हैं. मुजफ्फरनगर में पुलिस थाना तो मेरठ में एक पुलिस चौकी को आग के हवाले कर दिया गया. हिंसा की आंच दिल्ली तक भी पहुंची है. इस बीच सरकार ने आज SC/ST एक्ट पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के खिलाफ पुनर्विचार याचिका दाखिल की है. 
बता दें कि 20 मार्च को कोर्ट ने SC/ST एक्ट के तहत तुरंत गिरफ्तारी पर रोक लगा दी थी और गिरफ्तारी के लिए डीएसपी स्तर के अधिकारी की मंजूरी ज़रूरी कर दी थी. विपक्ष का आरोप है कि दलितों के इस मुद्दे पर सरकार हाथ पर हाथ धरे बैठी रही. जबकि सरकार ने दावा किया है कि वो दलितों से नाइंसाफी नहीं होने देगी.

मध्य प्रदेश में मरने वालों की संख्या 5 तक पहुंच गई है. इसमें मुरैना में 3 और ग्वालियर में 2 लोगों की मौत हुई है. वहीं, देवरा में भी एक व्यक्ति की मौत की खबर है. ग्वालियर में हुई लोगों की मौत के बाद पूरे शहर में इंटरनेट सेवाएं बंद कर दी गई हैं. सागर और ग्वालियर में दलितों के प्रदर्शन के बाद धारा 144 लागू कर दी गई है. 
वहीं, लहार, गोहद और मेहगांव समेत भिंड के कुछ इलाकों में भी कर्फ्यू लगा दिया गया है. मुरैना स्टेशन क्षेत्र इलाके में दुकानों को आग के हवाले कर दिया गया. इस दौरान पुलिस और मीडियकर्मी भी घायल हो गए. यहां छत्तीसगढ़ एक्सप्रेस को रोककर, शीशे तोड़े गए.
दलितों के हिंसक प्रदर्शन में 1 व्यक्ति की मौत हो चुकी है. वहीं, 35 लोग घायल हैं, इनमें से 3 की हालत गंभीर बताई जा रही है. डीआईजी (लॉ एंड ऑडर्र) के मुताबिक अब तक हिंसा के आरोप में 448 लोगों को हिरासत में लिया गया है. हिंसा के कारण मेरठ में सोमवार को दिल्ली-देहरादून हाइवे पूरी तरह से बंद कर दिया है.

Add comment


Security code
Refresh