मधुमेह रोग में चीनी से ज्यादा जरूरी है कैलोरी पर नियंत्रण रखना डॉ अमित छाबड़ा

1000

आज आयोजित एक कार्यक्रम में यशोदा सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल कौशांबी गाजियाबाद के वरिष्ठ डायबिटीज रोग विशेषज्ञ डॉक्टर अमित छाबड़ा मधुमेह रोग के बारे में जानकारी दी

मौका था विश्व मधुमेह दिवस जो आज ही के दिन विश्व भर में मनाया जाता है

इस स्वास्थ्य जागरूकता कार्यक्रम में लोगों की डायबिटीज से संबंधित जांचें निशुल्क की गई जिनमें ब्लड शुगर एवं 3 महीने की मधुमेह रोग की जानकारी देने वाले टेस्ट hba1c प्रमुख हैं.
 
आज के कार्यक्रम का विशेष आकर्षण  रहा डायबिटिक तंबोला, डायबिटीज तंबोला के माध्यम से मरीजों को डायबिटीज से जुड़े अनेकों सवाल-जवाब के बारे में खेल खेल में सिखाया गया , हॉस्पिटल के मुख्य कार्यकारी अधिकारी डॉ सुनील डागर ने तम्बोला के विजेताओं को पुरस्कार स्वरुप स्वास्थ्यवर्धक प्रोटीन पाउडर दे कर उन्हें सम्मानित किया  

1002
 
इस अवसर पर यशोदा सुपर स्पेशलिटी कौशांबी गाजियाबाद के ही वरिष्ठ ह्रदय रोग विशेषज्ञ डॉ असित खन्ना ने मधुमेह के रोगियों को जानकारी दी कि वे कैसे हृदय रोगों से बच सकते हैं

वरिष्ठ न्यूरोलॉजिस्ट डॉ सुमन चटर्जी ने लोगों को मधुमेह में  हाथ और पैरों की नसों के कमजोर होने के बारे में जानकारी दी
दंत रोग विशेषज्ञ डॉक्टर अनमोल अग्रवाल दे मधुमेह के रोगियों को अपने दांतो की देखभाल कैसे करें इस बारे में जानकारी  दी

 किडनी रोग विशेषज्ञ डॉक्टर विद्यानंद ने  मधुमेह की वजह से होने वाली किडनी की बीमारियों  के लक्षण एवं बचाव के बारे में बताया

डायटिशियन श्रीमती भावना गर्ग ने मधुमेह के रोगियों को  खान पान के बारे में जानकारी  एवं यह भी बताया कि किस तरह की  डाइट मधुमेह  रोग को होने से  बचा सकती है
वरिष्ठ नेत्र रोग विशेषज्ञ डॉक्टर नरेंद्र सिंह बी मधुमेह के रोगियों में होने वाले नेत्र रोगों के लक्षण एवं बचाव के बारे में जानकारी  दी
 
मोटे लोगों में मधुमेह की बीमारी को ख़त्म या नियंत्रित करने में बैरिएट्रिक एवं  मेटाबॉलिक सर्जरी के बारे में डॉ सुशांत वढेरा ने लोगों को जानकारी दी 
लोगों के सवालों का जवाब देते हुए डॉ अमित छाबड़ा ने कहा कहा कि यदि एक बार मधुमेह हो जाए तो उसे खत्म नहीं किया जा सकता केतु अपनी जीवन शैली एवं खानपान एवं उचित डॉक्टरी देखभाल से उसको नियंत्रित रखा जा सकता है और मरीज एक क्वालिटी लाइफ जी सकता है

डॉक्टर छाबड़ा ने जोर देते हुए कहा कि हम सामान्यतः मधुमेह रोग से बचने के लिए चीनी खाना कम कर देते हैं किंतु यह सही नहीं है चीनी से ज्यादा हमें कैलोरी का ध्यान रखना चाहिए जैसे कि पराठे में चीनी नहीं होती लेकिन उसमें कैलोरी की मात्रा बहुत ज्यादा होती है ऐसे में वह पराठा यदि किसी को डायबिटीज होने का खतरा बना हुआ है तो उसके लिए घातक सिद्ध हो सकता है
 
1001
 
डॉक्टर छाबड़ा ने कहा कि बैलेंस डाइट एवं 2-3 घंटे के अंतर पर  खाना खाना मधुमेह को नियंत्रित रखने के लिए एक अच्छा उपाय है

डॉक्टर छाबड़ा ने तनाव को डायबिटीज का एक प्रमुख कारण बताया और कहा की पारिवारिक या कार्य से जुड़ा हुआ या अन्य किसी भी प्रकार का तनाव डायबिटीज करने के लिए एक प्रमुख कारण हो सकता है

Add comment


Security code
Refresh